In this website you are getting many descriptive knowledge of Jainism. There are many descriptive things given here for Jainism. Story, activities, tasks etc are specified in this site.

People are working hard daily to earn, it is possible that they do not get time for reading those descriptive things. For them this section is made.

Here regular article will be produced or updated. Articles are which gives you information in short and let you make understand it faster. This section is so very easy and fast to read up for people so they can read the article in just few minutes.

Article is something which has point to point to content and no other descriptive or unwanted data. So refer this section and get yourself the idea of Jainism in few minutes and read the further descriptive things. .

90 ka sapna – kalpana ya vastavikta

  90 का सपना – कल्पना या वास्तविकता ? टीम वीर गुरुदेव की तरफ से आज का आर्टिकल है – 90 का सपना – कल्पना या वास्तविकता ? परमतारक परमात्मा त्रिभुवननाथ प्रभु श्री महावीर स्वामी की दिव्य यात्रा से हमें प्रतिपल सुनहरे आध्यात्मिक जीवन की प्रेरणा मिलती ही रहती है।...
Read More →

Guruvara me Pasiyantu – Guru purnima 2017

*गुरुवरा मे पसियन्तु*   टीम वीर गुरुदेव की ऒर से आज का आर्टिकल है – *गुरुवरा मे पसियन्तु*   परमतारक परमात्मा श्री महावीर स्वामीजी का शासन अति शोभायमान है और इस महान शासन को तेजवंत, वेगवंत बनाने में महत्वपूर्ण योगदान रहा है हमारे पूज्य साधु साध्वीजी भगवंतों का।    समय समय पर...
Read More →

Sambhal ja sansari

    वीर गुरुदेव की तरफ से आज का आर्टिकल है – संभल जा संसारी    परमतारक परमात्मा करुणासागर श्री महावीर स्वामीजी की विराट यात्रा अनेक जीवो के लिए प्रकाशस्तंभ के जैसे बना है। इस महायात्रा में तमाम अनुकूलता एवं प्रतिकूलता में प्रभु वीर ने सिर्फ आत्मसाधना को ही प्राधान्...
Read More →

Sanyog se Viyog tak

  प्रणाम टीम वीर गुरुदेव की ओर से आज का आर्टिकल है – संयोग से वियोग तक तारक तीर्थंकर परमात्मा श्री महावीर स्वामीजी का जीवन ही तमाम मोक्ष इच्छुक आत्माओ के लिए बड़ी मिसाल है। परमात्मा का शासन इतना जयवंत है कि भवप्रपंचो की जाल से बाहर निकलने हेतु हमें विशिष्ट प...
Read More →

Adhyatm ki garima

  *अध्यात्म की गरिमा*   वीर गुरुदेव की ओर से आज का आर्टिकल है – *अध्यात्म की गरिमा*   सदाकाल से जीव को अपना सम्मान सब से ज़्यादा प्यारा रहा है। आत्म सम्मान के लिए जीव किसी भी प्रकार का तनाव सहन नहीं कर पाता है। कभी कभी तो सम्मान को बचाने हेतु बड़े विवाद भी जीव अपना ले...
Read More →

Bawal

  बवाल   टीम वीर गुरुदेव की ओर से आज का आर्टिकल है बवाल।    “नमोस्तु वर्धमानाय स्पर्धमानाय कर्मणा”   उन वर्धमान को, उन महावीर को वंदन है जिन्होंने कर्मो के साथ स्पर्धा की। हम उनको ही मानते है तो हमारी स्पर्धा भी कर्मो के साथ होनी चाहिए।    स्व को छोड़कर बाह्य संसार ...
Read More →

Eklavya-3

वीर गुरुदेव फाउंडेशन की ओर से आज एकलव्य में विषय है – भ्रामकता का भ्रम आर्य संस्कृति में गुरु का सम्मान बहुत ऊँचा रहा है। गुरु के जीवन को अपना आदर्श बनाकर अनेक शिष्य भव सागर से पार हो गए। कभी कभी गुरु को भी शिष्य पर विशेष लगाव रहता है और इस वजह से शिष्य अपने गुरु क...
Read More →

Eklavya-1

एकलव्य आज से हमारा एकलव्य अध्याय शुरू हो रहा है – जिसमे ऐसी गुरुभक्ति की बाते की जायेगी जो हमने कभी भी सुनी ही नहीं। उत्तम गुरु भक्ति कर के भी साइलेंट रहने वाले शिष्य यानी की एकलव्य आज भी मौजूद है, उनके विषय में टीम वीर गुरुदेव की ओर से कुछ बाते जानेंगे। आज बात ...
Read More →

Adhyatm pipasa

*अध्यात्म पिपासा* वीर गुरुदेव टीम की ओर से आज का आर्टिकल है – अध्यात्म पिपासा अनंत काल से जीव संसार के चक्र में घुमता ही जा रहा है। यहाँ तक की साक्षात तीर्थंकर परमात्मा की वाणी सुनी, उन्हें देखा, अनुभव किया लेकिन यह सब सिर्फ बाहरी क्रिया रह गई। अंतरमन को इस जीव ने कभी नह...
Read More →