धन धन मुनिवरा – अहमदाबाद में बिराजमान साध्वीजी भगवंत

गुरूवार गुरु का वार धन धन मुनिवरा अहमदाबाद के खानपुर विस्तार में बिराजमान साध्वीजी भगवंत करीब ७ ठाणा – एक साध्वीजी शाम को गोचरी हेतु पधारे – आधुनिक लोगो के घर में शाम को जल्दी रसोई तैयार न थी। २ घर से ही गोचरी का जोग हुआ। एक घर में से थोड़ा सा आहार मिला दूसरे घर से सिर्फ २ पापड़। किसी को पता चला तो बहोत विनंती की चलो कही और ले जाता हु। पता था की गोचरी के तीन पात्र भी भरे नहीं हे और गोचरी करने वाले साध्वीजी ६ – ऐसा होते हुए भी वे साध्वीजी एकदम प्रसन्न मुद्रा में बोलते हे हमें खप नहीं हे। कितना महान हे जिनशासन – संसार में बैठ के साधु साध्वी की निंदा करने वालो को शिखना चाहिए। श्री वीर का शासन ही ऐसा सत्व दे शकता हे। उन साध्वीजी में से एक को अभी १०८ आयबिल हुए – ऐसी ३७ ओली हुई। ओली के पारणे में भी उपवास। ओली चल रही थी तब भी गरमी में उग्र विहार – गुरु की सेवा वैयावच्च – दूसरे साध्वीजी के लिए भी गोचरी लाना। और सब प्रसन्न हो के करना – कितना मूल्यवान हे ये शासन – ऐसे रत्नो से जगमगा रहा ये शासन। अंदर से आवाज निकल जाती हे – धन धन मुनीवरा वैयावच्च थी स्वाध्याय आदि शक्ति पाचन करता ते ज मुनी जिनशासन नी साची सेवा करता – धन धन मुनीवरा ……. टीम वीर गुरुदेव www.veergurudev.com faceboom.com/veergurudev

About the Author

Leave a Reply

*

captcha *